एसपी की क्रूरता
September 18, 2018 • Bishan Gupta

 

देश आजादी की 72वीं सालगिरह मना रहा है, लेकिन आज भी कुछ पुलिस अधिकारियों पर ब्रिटिश राज का भूत सवार है। आम आदमी की तो बात ही छोड़ दीजिए, वो अपने अधीनस्थ कर्मचारियों से भी जानवरों जैसा सलूक करते हैं। इसकी ताजा बानगीं मिल रही है उड़ीसा में जहां एक एसपी पर उनके दो अर्दली ने टॉर्चर करने के गम्भीर आरोप लगाये हैं। उड़ीसा के नबरंगपुर के एसपी पर उनके दो अर्दली ने मामूली बात पर अत्याचार करने के गंभीर आरोप लगाये हैं। अर्दली रॉबिन कुमार लीमा और छोटी-छोटी गलतियों पर उनके साथ अत्याचार की हदें पार कर जाते हैं। ये सजा कई बार तो ऐसी होती कि किसी की जान पर ही बन आये। अर्दली रॉबिन कुमार लीमा के मुताबिक, अभी हाल ही में एक सुबह 9 बजे वो एसपी साहब को जगाने गया, लेकिन उस वक्त एसपी साहब नहीं उठे, तो उसने उन्हें 9:45 पर जगाने की कोशिश की। इस पर एसपी विवेकानद शर्मा बुरी तरह भड़क गये और उसे सजा के तौर पर अपने अधिकारिक आवास के 20 चक्कर लगाने का फ़रमान सुना दिया। रॉबिन ने कहा कि साहब के आदेश का पालन करते हुए उसे अचानक छाती में तेज दर्द महसूस हुआ, जिसके बाद उसे नबरंगपुर जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया और बाद में उसे कोरापुट में साहेद लक्ष्मण नायक मेडिकल कॉलेज में स्थानांतरित कर दिया गया, जहां इलाज के बाद उसे छुट्टी दे दी गयी। इसी तरह का बाकया एसपी विवेकानंद का दूसरा अर्दली देबराज चंदा बताता है। उसके मुताबिक, वो ब्लड प्रेशर का मरीज है, लेकिन यह जानते हुए भी एसपी विवेकानंद शर्मा ने अपने आदेशों में हुई मामूली चूक के लिए उस पर कई बार शारीरिक हमले किये। उसने कहा कि अभी हाल ही में एक मामूली गलती के चलते उसे खाना भी नहीं दिया गया। रॉबिन कुमार लीमा रायगढ़ का रहने वाला है, जबकि देबराज चांडी का संबंध गंजम जिले के खल्लीकोटे से है। दोनों का कहना है कि अपने लम्बे सेवाकाल के दौरान उन्हें किसी भी अधिकारी से इस तरह प्रताड़ित नहीं होना पड़ा। एसपी विवेकानंद शर्मा पर आरोपों की फेहरिस्त इतनी भर नहीं हैं। एसपी साहब पर यह भी आरोप है कि वो अपने सुरक्षाकर्मियों और अर्दलियों से लेबर का काम करवाते हैं, जबकि उन्हें अच्छी तरह पता है कि उन्हें ये अधीनस्थ कर्मचारी किस काम के लिए मिले हुए हैं। हालांकि एसपी साहब अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से नकार रहे हैं। लेकिन लीमा और चांडी की मेडिकल रिपोर्ट उनकी प्रताड़ना को बयां करने के लिए काफ़ी है। इसके साथ ही वो अपने स्टाफ़ से किस तरह का काम लेते हैं, यह उनके परिसर में काम करते हुए कर्मियों की तस्वीरें खुद बयां करती हैं।

वहीं एसपी विवेकानंद शर्मा पर लगे आरोपों के सुर्खियां बनने के बाद दक्षिणी रेंज के डीआईजी आशीष कुमार सिंह ने कहा है कि इस मामले की जांच की जाएगी और संबंधित एसपी से रिपोर्ट मांगी जाएगी।