दुल्हन एक रात की
September 28, 2019 • Bishan Gupta

रिपोर्ट -उदय प्रताप सिंह 

सोनम कपूर अभिनीत फिल्म 'डॉली की डोली' को आप भूले नहीं होंगे, जिसमें  फिल्म के मुख्य किरदार के रुप में सोनम कपूर एक गिरोह के साथ रहती है। नाम पता बदलकर उसका एक अविवाहित पुरुष के साथ रिश्ता तय होता है। शादी होती है और फिर शादी की पहली ही रात दुल्हन अपने गिरोह के साथ घर की नगदी और जेवरात लेकर फरार हो जती है। लगातार कई केस हो जाने के बाद पुलिस इस गिरोह को तलाशती है।

ठीक इसी तर्ज पर मध्य प्रदेश में महिलाओं का एक ऐसा शातिर गिरोह सक्रिय है, जिसके शातिर सदस्य पहले तो किसी अमीर व्यक्ति या उसके परिवार से दोस्ती गांठ लेते हैं और फिर उस घर के किसी अविवाहित पुरुष के साथ अपने गिरोह की किसी लड़की की शादी करवा देते हैं और फिर मौका देखकर घर की सारी जूलरी और नगदी लेकर फरार हो जाती है राजगढ़ जिले के खिचलीपुर के तड़तड़ा गांव के मंगू सिंह इस लुटेरी दुल्हन गिरोह के ताजा शिकार हुए है। मंगू सिंह ने कुछ दिन पहले पायल ठाकुर नाम की लड़की के साथ एक दलाल के मार्फत कोर्ट मैरिज की थी। शादी को अरेंज करवाने के एवज में दलाल ने मंगू सिंह से एक लाख रूपये लिए थे। इसके बाद शाम को वो घर लौट आये। इस दौरान घर के बाकी लोग दूसरे कामों में व्यस्त हो गये। रात करीब 8 बजे भोजन की तैयारी चल रही थी कि घर की महिलाएं दुल्हन को खाने के लिये बुलाने उसके कमरे में गयीं, लेकिन दुल्हन पायल कमरे में नहीं थी। इसके बाद उसे घर में सब ओर तलाशा गया, तो वो भागने की तैयारी कर रही थी। जब उसकी पोल खुल गयी, तो मंगू और दूसरे लोगों ने पुलिस को इसकी खबर कर दी। जब इस संबंध मे पुलिस ने पायल ठाकुर से पूछताछ की, तो उसने सारी सच्चाई उगल दी। पायल ने पुलिस को बताया कि उसका असली नाम मीनू है और वो रायसेन की रहने वाली है। इसके साथ ही वो पहले से शादीशुदा है और उसका एक बेटा भी है । मीनू ने बताया कि दलाल राहुल मिश्रा ने उसे पैसे का लालच देकर उसकी यहां शादी करवाई थी। पहले भी उसकी कई जगह शादी करवाई गयी थी। मंगू सिंह ने बताया कि कुछ साल पहले उसकी पत्नी का निधन हो गया था। अभी कुछ दिन पहले उसे जानकारी मिली कि ब्यावर की मंगीवाई शादी करवाती है । मैंने उससे बात की और एडवांस के  तौर पर उसे 5 हजार रूपये दिये। इसके बाद उसे पायल ठाकुर से मिलवाया गया, तो मैंने शादी के लिए हां कह दी। शादी के खर्च के नाम पर उससे एक लाख रूपये लिए गये। ...

उधर पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत पर मीन, मंगीवाई और उसके साथियों के खिलाफ धोखाधड़ी धोखाधड़ी का मामला दर्ज करके अपनी कार्रवाही शुरु कर दी है, हालांकि अभी राहुल मिश्रा फरार है। इसके साथ ही पुलिस को यह भी पता चला है कि इस लुटेरी दुल्हन गिरोह के सदस्य पहले भी कई लोगों को अपना शिकार बना  चुके हैं। गिरोह के सदस्य किसी तरह मजबूरी दिखाकर पहले तो अपने गैंग की किसी महिला की शादी किसी अमीर लड़के से करवा देती हैं और फिर उस घर की सारी जूलरी और नगदी लेकर फरार हो जाती हैं।