दो बहनों की हत्या से दहला रायपुर
December 15, 2019 • Bishan Gupta

 एकतरफ़ा प्यार में अन्धे एक सिरफिरे आशिक ने अपनी कथित प्रेमिका और उसकी बहन की हत्या कर दी। यह सनसनीखेज वारदात घटी है, छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में, जहां एक लड़की की अपने पड़ोस में रहने वाले एक युवक से दोस्ती थी। लेकिन युवक के चाल-चलन को देखकर और परिवारवालों के समझाने के बाद लड़की ने अपने साथी उस युवक से संबंध तोड़ लिये। इसी बीच वो लड़की पढ़ने के लिए रायपुर आ गयी और बहन के साथ एक हॉस्टल में किराये पर रहने लगी। लेकिन एक दिन वो सिरफ़िरा आशिक अपने दो साथियों के साथ लड़की से मिलने उसके हॉस्टल पहुंच गया और  उस लड़की और उसकी बहन दोनों की हत्या कर दी। दोहरे हत्याकाण्ड की यह वारदात रायपुर के टिकरापारा क्षेत्र के गोदावरी इलाके की है, जहां एक निजी हॉस्टल में कुछ लड़कियां रहकर पढ़ाई करती हैं। इन्हीं में रायगढ़ निवासी दो बहनें मनीषा सिधार और मंजूलता भी थी, जो नर्सिग की पढ़ाई कर रही थीं। बीते १० दिसम्बर के दिन जब दोनों बहनें खाना खाने की तैयारी कर रही थीं कि इसी बीच मजूलता का पूर्व साथी सैफ़ उर्फ सैफ़ी अपने दो साथियों के साथ रायगढ़ से रायपुर उसके हॉस्टल पहुंच गया। सैफ़ ने अपने एक साथी को तो हॉस्टल के नीचे खड़ा कर दिया और दूसरे साथी गुलाम मुस्तफ़ा के साथ वो अपनी कथित प्रेमिका के कमरे में घुस गया। उन्हें आये हुए कुछ ही मिनट बीते थे कि इसी बीच उनके कमरे से तेज आवाजें सुनाई दी। पहले तो हॉस्टल की बाकी लडकियों ने इस पर गौर नहीं दिया, लेकिन जब उनके कमरे से चीखने-चिल्लाने की आवाजें सुनाई देने लगीं , तो हॉस्टल की कुछ लड़कियां उनके कमरे तक पहुंची , तो वो अवाक रह गयी, क्योंकि कमरे में उनसे मिलने आये वो दोनों युवक बेरहमी से उन दोनों बहनों के ऊपर चाकू और तवे से वार कर रहे थे। इस पर उन्होंने तुरन्त ही इसकी सूचना हॉस्टल मालिक बंटी उर्फ़ इन्द्रचन्द्र साहू को सूचना दी ,लेकिन  जब बंटी साहू उन लड़कियों के कमरे में पहुंचा, तो सैफ़ और उसका साथी गुलाम मुस्तफ़ा उसे धक्का देकर फ़रार गये। इसके बाद हॉस्टल मालिक बंटी साहू ने पुलिस को फ़ोन किया। उधर जब तक पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों घायल बहनों को अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। दोनों लड़कियों की जान निकल चुकी थी। 

 पुलिस की जांच में यह बात सामने आयी है कि तीनों आरोपी युवक रायगढ़ के रहने वाले है, जिसमें सैफ़ की मजूलता से दोस्ती थी। लेकिन सैफ़ की हरकतों को देखकर मंजूलता ने उससे दोस्ती तोड़ दी। लेकिन इसके बावजूद सैफ़ मंजूलता के पीछे पड़ा रहा। इसी बीच मंजूलता को उसके परिवारवालों ने पढ़ाई के लिए रायपुर भेज दिया, जहां उसकी बहन भी पढ़ाई कर रही थी। इस बात को वो सिरफ़िरा आशिक पचा नहीं पाया और उसने अपनी कथित प्रेमिका को सबक सिखाने की ठान ली । इसके लिए उसने एक खतरनाक योजना बनाई और इसमें अपने दो दोस्तों को भी शामिल कर लिया। अपनी योजना  को अन्जाम तक पहुंचने के लिए सैफ़ अपने दोस्तों के साथ से रायपुर में मंजूलता के हॉस्टल पहुंच गया और अपनी कथित प्रेमिका मंजूलता और उसकी बहन मनीषा सिधार की बेरहमी से हत्या कर दी और फ़रार हो गये। लेकिन पुलिस ने इस मामले में तेजी दिखाते हुए आरोपी सैफ़, उसके साथी गुलाम मुस्तफ़ा और एक नाबालिग लड़के को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की कार्रवाही में जुटी है।

उधर पूरे रायपुर में इस दोहरे हत्याकाण्ड से सनसनी है और लोग आरोपियों को कड़ी सजा की मांग कर रहे हैं। लेकिन इस वारदात ने एक बार फ़िर यह बात साबित कर दी है कि इश्क में नाकाम आशिक अपनी सारी सुध-बुध खो बैठता है और जघन्य अपराध करने से भी नहीं चूकता