झारखण्ड में सशक्त हुआ पुलिस बल, राज्य को मिले २५०४ नये सब इंस्पेक्टर
November 14, 2019 • Bishan Gupta

रिपोर्ट -अरुणेश कुमार 

झारखण्ड राज्य में अब पुलिस बल और अधिक सशक्त हो गया है। राज्य को कुल २५०४ नये दरोगा (सब इंस्पेक्टर) मिले हैं। हजारीबाग स्थित पुलिस अकादमी में नवनियुक्त २५०४ दरोगा ने पासिंग आउट परेड में कर्तव्यनिष्ठा की शपथ ली। झारखण्ड के लिए यह बड़े गौरव का दिन रहा, जब एक साथ इतनी इतनी बड़ी संख्या में दरोगाओं की नियुक्ति हो पाई। हालांकि अभी भी राज्य में दरोगा के ३५०० पद रिक्त हैं। राज्य में काफी दिनों से यह प्रयास किया जा रहा था, कि विधि व्यवस्था और अनुसंधान की टीम थाना स्तर पर अलग -अलग हो। यह प्रयास अब कामयाब होता दिख रहा है। नवनियक्त २५०४ दरोगा में २२९६ पुरूष और २१० महिलाएं हैं। नवनियुक्त दरोगा में १२७२ साइंस बैकग्राउंड के हैं । यह झारखण्ड पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धी कही जाएगी, क्योंकि इससे तकनीकी साक्ष्य एकत्रित करने, साइबर क्राइम के मामलों का खुलासा करने, खुफिया जानकारी एकत्र करने और अन्य तकनीकी मोर्चे पर झारखण्ड पुलिस के लिए काफ़ी सहलियत होगी। पासिंग आउट परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए मुख्यमंत्री रघुवरदास ने सभी नवनियुक्त दरोगाओं को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि मैं उम्मीद करता हूं कि आप झारखण्ड को उग्रवाद और अपराधमुक्त बनाने में जी जान लगा देंगे। आप पूरी ईमानदारी से काम करते हुए जनता से मित्रवत संबंध बनाएंगे। आप जनता से संवाद कर, उनसे समन्वय बनाकर कानून सम्मत उनकी परेशानियों को हल करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सुशासन हो, इसके लिए अपराध और भ्रष्टाचार पर लगाम जरूरी है। अधिकारी ईमानदार होंगे, तो ही प्रदेश में सुशासन होगा। पुलिस को अमन चैन और सौहार्दपूर्ण माहौल बनाने के लिए जनता से बेहतर संबंध बनाने होंगे। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में दरोगाओं की नियुक्ति राज्य की बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि नौकरियों का सृजन कर बेरोजगारी दूर करने का यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। हम सूबे में बेहतर रोजगार के अवसर बना रहे हैं, जिसके लिए युवा अपनी तैयारी जारी रखें। दरोगा के शेष बचे पदों पर भी जल्दी ही नियुक्तियां की जाएंगी । इस मौके पर मुख्यमंत्री ने बताया कि नेतरहाट स्थित जंगल वार फ़ेयर को पूर्वी क्षेत्र का सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षण केन्द्र होने का गौरव प्राप्त हुआ है। आने वाले दिनों में सीटीसी मुसाबनी, हजारीबाग प्रशिक्षण केन्द्र एवं जंगल वार फ़ेयर नेतरहाट को सेंटर फ़ॉर एक्सीलेंस के रूप में विकसित किया जाएगा। 

पासिंग आउट परेड में शामिल हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक केएन चौबे ने कहा राज्य में पुलिस विभाग के पास पर्याप्त संसाधन मौजूद हैं। प्रशिक्षु दरोगा विभिन्न थानों में जाकर सेवा प्रदान करेंगे। इन नियुक्तियों से पुलिस बल आन्तरिक तौर पर और अधिक मजबूत हुआ है। इससे सामाजिक सुरक्षा व्यवस्था में और अधिक मजबूती आएगी। पुलिस महानिदेशक प्रशिक्षण प्रिया दुबे ने कहा कि नवनियुक्त दरोगाओं को आधुनिक और पारंपरिक दोनों तरह के क्राइम से निपटने क प्रशिक्षण मिला है। साइबर क्राइम से निपटने के लिए इन्हें खासतौर पर प्रशिक्षित किया गया है। स्मार्ट पुलिसिंग की भी ट्रेनिंग दी गयी है। अकदमी के निदेशक टी कदसामी ने कहा कि नवनियुक्त दरोगाओं को हमने अपराध जगत से मिलने वाली चुनौतियों से लड़ने के लिए पारंगत किया है। ये जहां भी सेवा देंगे, वहा इनकी गुणवत्ता स्पष्ट दिखाई देगी